मिजोरम में आंधी-तूफान और बारिश का कहर, 150 परिवारों को सुरक्षित निकाला गया

नई दिल्ली: मिज़ोरम में आंधी-तूफान और बारिश ने बड़े स्तर पर तबाही मचाई है. रविवार से हो रही बारिश की वजह से तमाम इलाके पानी में डूब गए हैं. कई जगह खेत भी पानी में डूब चुके हैं और बाढ़ का पानी लगातार बढ़ता जा रहा है. राजधानी आइजोल 

को जोड़ने वाली कई सड़कें टूट गई हैं. बिजली की तार के खंभे गिर गए हैं. तमाम सरकारी कार्यालयों को भी नुकसान पहुंचा है. लेंगपुई एयरपोर्ट की तरफ जाने वाली सड़क (NH 54) भी मिट्टी धंसने की वजह से ब्लॉक हो गई है. इस सड़क को दोबारा दुरुस्त करने का प्रयास किया जा रहा है. दूसरी तरफ, तूफान और बारिश के बाद पैदा हुई स्थिति से निपटने के लिए राज्य के आपदा प्रबंधन विभाग समेत अन्य विभागों ने कमर कस ली है. प्रभावित इलाकों में राहत और बचाव कार्य जारी है. भारी बारिश के बाद आई बाढ़ में राज्य के लुंगलेई जिले में फंसे 150 परिवारों को अब तक सुरक्षित निकाला गया है.

टिप्पणियां

यह भी पढ़ें :  ताजमहल पर बारिश का कहर, एंट्री गेट पर पिलर का एक हिस्सा टूटकर गिरा

 

rain


 बारिश की वजह से मिजोरम में जगह-जगह मिट्टी धंसने की सूचना है.


गौरतलब है कि मौसम विभाग ने मिजोरम में 12-16 जून तक भारी बारिश की आशंका जताई है. यानी अगले तीन दिनों तक भी राज्य में बारिश की स्थिति बनी रह सकती है. इससे खासकर निचले इलाकों  में हालत और बिगड़ सकती है. आपको बता दें कि 3 दिन पहले दक्षिण पश्चिमी मानसून के उत्तर दिशा की ओर तेजी से बढने के बीच देश के पश्चिमी तट पर भारी बारिश हुयी थी. मौसम विभाग ने मछुआरों को गहरे समु्द्र में नहीं जाने की सलाह दी थी. भारतीय मौसम विभाग के अनुसार, तटीय कर्नाटक, गोवा और दक्षिणी कोंकण क्षेत्र में भारी बारिश हुयी. इसके अलावा नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, केरल, महाराष्ट्र में कुछ स्थानों पर बहुत भारी बारिश हुयी.    

 

rainबारिश की वजह से लोगों के मकान टूट गये हैं. 

यह भी पढ़ें : मॉनसून से पश्चिमी तट पर भारी बारिश, मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने की सलाह

 NDTV.com Khabar – Latest